Uttarakhand: विजयलक्ष्मी हत्याकांडः जिसे अपने बच्‍चों की तरह प्‍यार दिया, वही निकली कातिल

खबरें सुने

किच्छा में विजयलक्ष्मी की हत्या का सनसनीखेज मामला सामने आया है। जिस अंजली को विजयलक्ष्मी ने अपनी बेटी की तरह प्यार दिया, दुलार दिया, उसके लिए कपड़े तक सिलवाए, अपने भांजे की शादी में लखनऊ भी साथ लेकर गई, उसी ने विजयलक्ष्मी की हत्या कर दी। परिवार के इस विश्वास पर अंजली का घात, एक ऐसा घात जिसका मरहम लगना मुश्किल होगा।

विजयलक्ष्मी की मृत्यु ने उठाए सवाल

29 जून को जब विजयलक्ष्मी का शव मिला, तो परिवार के लोगों को उनकी मृत्यु हजम नहीं हो रही थी। उनके गले की चार तोले की सोने की चेन, जिसे वह कभी अपने से अलग नहीं करती थी, गायब थी। परिवार को चोरी का मामला शक की नज़र से देख रहा था। अंतिम संस्कार से पूर्व जब चेहरे की रंगत बिगड़ी तो परिवार का शक और भी गहरा गया।

सीसीटीवी फुटेज ने खोला सच

परिवार की लगातार जिद पर पुलिस ने आस पास लगे सीसीटीवी खंगाले तो देर रात अंजली जब एक युवक के साथ पीछे के दरवाजे से जाती दिखाई दी तो सब कुछ साफ हो गया कि विजयलक्ष्मी की मृत्यु के पीछे अंजली का ही हाथ है। कड़ी पूछताछ में अंजली ने अपना जुर्म कबूल कर लिया।

पैसे की लालच और प्रेमी की मदद

अंजली पर उसके घर की जिम्मेदारी थी। वह उत्तराखंड की सीमा पर आने वाले वाहनों के लिए बहती बनाने का काम करती थी। उसका पंजाब कालोनी में घर बन रहा था, जिसके चलते काफी कर्जा हो गया था। लोगों का पैसा देने का दबाव उस पर बना रहा था। इस दबाव से मुक्ति पाने के लिए उसने विजयलक्ष्मी को निशाना बनाया और अपने प्रेमी शिवम को इस कार्य में साथ ले लिया।

घातक योजना

शिवम का ननिहाल किच्छा में होने के कारण उससे मुलाकात हो गई थी। शिवम के साथ अंजली ने विजयलक्ष्मी के अकेले होने का लाभ उठा चोरी की योजना तैयार कर ली थी।

रात की घात

अंजली ने पहले रात में विजयलक्ष्मी को खाना बना कर खिलाया। वह से नींद की गोली खिलाना चाहती थी, परंतु कामयाब नहीं हो पाई तो वह उसके सोने का इंतजार करती रही। इस दौरान अंजली ने पीछे के दरवाजे से शिवम को घर के अंदर बुला लिया था और वह छत पर जाकर विजयलक्ष्मी के सोने का इंतजार करता रहा। इस दौरान अंजली से उसकी चैटिंग इंटरनेट मीडिया के माध्यम से चलती रही।

विजयलक्ष्मी के सो जाने पर जब शिवम को बुला कर वह विजयलक्ष्मी के गले में पड़ी सोने की चेन काटने लगा तो विजयलक्ष्मी की नींद खुल गई। अपनी पोल खुलती देख कर दोनों ने मिल कर विजयलक्ष्मी की हत्या कर दी।

परिवार का दर्द

विजयलक्ष्मी की हत्या का मामला परिवार के लिए एक गहरा झटका है। अंजली की मां का विजयलक्ष्मी के घर आना जाना वर्षों से था। अंजली की हत्या की घटना एक बड़ा विश्वासघात है जिसने पूरे परिवार को सदमे में डाल दिया है।

भाजपा नेताओं का आभार

विजयलक्ष्मी हत्याकांड के पर्दाफाश पर भाजपा नेताओं ने एसएसपी डा. मंजूनाथ टीसी से मुलाकात कर आभार व्यक्त किया। उन्होंने कहा कि विजयलक्ष्मी की संदिग्ध परिस्थितियों में मृत्यु का राज सामने आना जरुरी था। उनके निर्देश पर पुलिस ने कार्रवाई की।

एक दर्दनाक सच

विजयलक्ष्मी की हत्या एक दर्दनाक सच को उजागर करती है। विश्वास का यह घातक सच परिवार के लिए एक गहरा आघात है। इस घटना ने एक बार फिर साबित किया है कि विश्वास का मूल्य कितना महत्वपूर्ण है, और इसे धोखा देना कितना हानिकारक हो सकता है

 

Pls read:Uttarakhand: तीन दिनों तक भारी बारिश का अलर्ट, नैनीताल में कल स्कूल बंद

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *