Himachal: उत्तराखंड के पूर्व मुख्य सचिव राकेश शर्मा पर हिमाचल सरकार गिराने का षड़यंत्र रचने का मुकदमा दर्ज

खबरें सुने

शिमला। हिमाचल प्रदेश में कांग्रेस सरकार पर छाये राजनीतिक संकट के लिए उत्तराखंड के पूर्व मुख्य सचिव राकेश शर्मा पर मुकदमा दर्ज हुआ है। पूर्व आईएएस राकेश शर्मा हिमाचल के रहने वाले हैं और उनका बेटा चैतन्य शर्मा कांग्रेस का बागी विधायक है, जिसने 5 अन्य साथी बागी विधायकों के साथ राज्यसभा चुनाव में क्रास वोटिंग की थी। कांग्रेस के दो विधायकों भुवनेश्वर गौड़ व संजय अवस्थी ने निर्दलीय विधायक आशीष शर्मा व अयोग्य ठहराए गए कांग्रेस के विधायक चैतन्य शर्मा के पिता राकेश शर्मा के विरुद्ध षड्यंत्र व भ्रष्टाचार का आरोप लगाते हुए मुकदमा दर्ज किया है। राकेश शर्मा उत्तराखंड के मुख्य सचिव रह चुके हैं।

इस बीच कांग्रेस ने केंद्रीय पर्यवेक्षकों के सुझाव पर समन्वय समिति गठिक कर उसमें मुख्यमंत्री सुक्खू, उपमुख्यमंत्री मुकेश अग्निहोत्री, प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष प्रतिभा सिंह के साथ स्वास्थ्य मंत्री धनीराम शांडिल, पूर्व मंत्री कौल सिंह ठाकुर व राम लाल ठाकुर को शामिल किया गया है। अयोग्य घोषित छह विधायकों की याचिका पर सुप्रीम कोर्ट के तीन जजों की पीठ 12 मार्च को सुनवाई करेगी।

ताजा अपडेट में हमीरपुर से निर्दलीय विधायक आशीष शर्मा व कांग्रेस के अयोग्य घोषित विधायक चैतन्य शर्मा के पिता राकेश शर्मा सहित अन्य के विरुद्ध बालूगंज थाना में मुख्य संसदीय सचिव संजय अवस्थी व विधायक भुवनेश्वर गौड़ की शिकायत पर प्राथमिकी की गई है। जल्द ही इस  मामले में पूछताछ होगी।  सूत्रों के अनुसार एफआईआर में रिश्वत लेने, आपराधिक षड्यंत्र रचने और भ्रष्टाचार निरोधक कानून की धाराएं भी जोड़ी गई है। राजेश शर्मा पर आरोप लगाया गया है कि भाजपा विधायकों के साथ मिलकर उन्होंने न केवल षड्यंत्र रचा बल्कि उसके लिए कई कांग्रेस विधायकों को प्रलोभन भी दिया। राकेश पर राज्यसभा चुनाव में वोट की एवज में करोड़ों रुपये के लेन-देन का आरोप है। सूत्रों का कहना है कि ऋषिकेश से आगे जिस फार्म हाउस में हिमाचल के विधायकों को ठहराया गया है, फॉर्म हाउस का मालिक पूर्व मुख्य सचिव का करीबी बताया जा रहा है।

एसपी शिमला ने बताया कि शिकायत के आधार पर मामला दर्ज कर जांच शुरू कर दी है। वहीं, राकेश शर्मा ने कहा कि यह सब राजनीतिक दबाव बनाने का प्रयास है। मैं किसी दबाव में आने वाला नहीं। इस तरह की कई एफआइआर सेवाकाल में देखी हैं।

 

यह पढ़ेंःhimachal: हिमाचल कांग्रेस में उठापटक जारी, विक्रमादित्य दिल्ली में हाईकमान से मिले

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *