Punjab: मुख्यमंत्री मान गुरूवार को पंजाब का पहला इंस्टीट्यूट ऑफ लीवर एंड बिलियरी साइंसज़ लोगों को करेंगे समर्पित

खबरें सुने

-इंस्टीट्यूट ऑफ लीवर एंड बिलियरी साइंसिज़, नयी दिल्ली की तरह की गई इस इंस्टीट्यूट की स्थापना
-गुरूवार से, लीवर और बिलियरी सम्बन्धी बीमारियों वाले मरीज़ इस इंस्टीट्यूट में डॉक्टरी देखभाल सेवाओं का ले सकते हैं लाभ: स्वास्थ्य मंत्री डॉ. बलबीर सिंह
-इंस्टीट्यूट में पहले ही पिछले 8 महीनों से ओ.पी.डी. सेवाएं कार्यशील
चंडीगढ़, 28 फरवरी:
राज्य में विश्व स्तरीय स्वास्थ्य सुविधाएं सुनिश्चित बनाने सम्बन्धी प्रतिबद्धता के अंतर्गत मुख्यमंत्री भगवंत सिंह मान गुरूवार को पंजाब का पहला इंस्टीट्यूट ऑफ लीवर एंड बिलियरी साइंसज़, एस.ए.एस. नगर लोगों को समर्पित करने के लिए पूरी तरह से तैयार हैं। जि़क्रयोग्य है कि सरकार ने बजट सैशन- 2022 में इस सम्बन्धी ऐलान किया था।

एस.ए.एस. नगर के फेज बी-1 में स्थापित यह संस्था हैपेटोलोजी के क्षेत्र में सुपर-स्पैशियैलिटी केयर, प्रशिक्षण और अनुसंधान सम्बन्धी अति-आधुनिक बुनियादी ढांचे से लैस है। इस इंस्टीट्यूट की स्थापना 40 करोड़ रुपए से अधिक की लागत के साथ की गई है और इसमें 80 डॉक्टर, 150 स्टाफ नर्सें और 200 ग्रुप-डी कर्मचारियों समेत 450 के करीब स्टाफ होगा। प्रोफ़ैसर वरिन्दर सिंह, जो कि हैपेटोलोजी पीजीआई, चंडीगढ़ के पूर्व प्रोफ़ैसर और प्रमुख हैं, को संस्था का डायरैक्टर नियुक्त किया गया है।
पंजाब के स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्री डॉ. बलबीर सिंह ने इस प्रतिष्ठित संस्था के कार्य को पूरा करने के लिए मुख्यमंत्री भगवंत सिंह मान द्वारा दिए सहयोग के लिए तहेदिल से धन्यवाद करते हुए कहा कि नयी दिल्ली के बाद पंजाब देश का ऐसा दूसरा राज्य होगा जहाँ लीवर और बिलियरी रोग के मरीजों के लिए विशेष तौर पर इंस्टीट्यूट होगा। बताने योग्य है कि इस इंस्टीट्यूट की स्थापना की इंस्टीट्यूट ऑफ लीवर एंड बिलियरी साइंसज़ (आई.एल.बी.एस.), नयी दिल्ली की तरह किया गया है।
जि़क्रयोग्य है कि यह संस्था पिछले 8 महीनों से ओ.पी.डी. सेवाएं दे रही है और गुरूवार से इंस्टीट्यूट में इनडोर, इंटैंसिव केयर और इमरजैंसी सेवाएं शुरू हो जाएंगी। इस संस्था से गंभीर और पुरानी हैपेटाईटस, सिरोसिस, लीवर कैंसर, अल्कोहलिक लीवर डिजीज, ऐसाईटस, अलग-अलग पैनक्रियाटिक बीमारियाँ और पित्ते सम्बन्धी बीमारियाँ और अलग-अलग किस्मों की बिलियरी डिजीज वाले मरीज़ इस संस्था से इलाज करवा सकते हैं।
डॉ. बलबीर सिंह ने बताया कि यह राज्य का पहला सरकारी अस्पताल होगा जहाँ यू.जी.आई. ऐंडोस्कोपी, फाईब्रोस्कैन, ऐंडोस्कोपिक अल्ट्रासाउंड और ई.आर.सी.पी. जैसी बीमारियों का इलाज किया जायेगा। उन्होंने कहा कि यह संस्था पंजाब के सभी सरकारी अस्पतालों तक पहुँच के लिए टैलीमेडिसिन सेवाएं भी शुरू करेगी।
उन्होंने बताया कि इस संस्था में जल्द ही लीवर ट्रांसप्लांट की सुविधा भी शुरू होने की उम्मीद है।
बताने योग्य है कि इस मौके पर मुख्यमंत्री, पंजाब द्वारा फूड एंड ड्रग ऐडमिनिस्ट्रेशन, पंजाब के नये स्थापित राज्य और ज़ोनल दफ़्तरों का उद्घाटन भी किया जायेगा। इन दफ्तरों में फूड एंड ड्रग ऐडमिनिस्ट्रेशन, पंजाब का स्टेट हैडक्वाटर भी शामिल है- जिसका नाम बदल कर कमिश्नरेट, फूड एंड ड्रग्ज़ एडमिनिस्ट्रेशन रखा गया है और यह 2.63 करोड़ रुपए की लागत के साथ फेज 9 में स्थापित किया गया है, जब कि 278.01 लाख रुपए की लागत के साथ गुरदासपुर, जालंधर, बठिंडा और फिऱोज़पुर समेत चार ज़ोनल दफ़्तर स्थापित किये गए हैं।

 

Pls read:Punjab: केंद्र की भाजपा सरकार ने देश के अन्नदाता किसान और कृषि दोनों को हाशीये पर धकेला: स्पीकर संधवां

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *