HImachal: दुग्ध उत्पादकों और किसानों की आय बढ़ाने को सरकार ला रही योजनाएं- सीएम सुक्खू

खबरें सुने

शिमला। मुख्यमंत्री सुखविंदर सिंह सुक्खू का कहना है कि आज किसी भी स्तर से दुग्ध उत्पादन के बारे में गंभीरता से विचार नहीं किया। उन्होंने कहा कि मैं आपको स्वावलंबी बनाना चाहता हूं, ताकि किसान घर में बैठकर अपनी आय के साधन बढ़ा सके। किसानों को उनकी मेहनत का उचित मूल्य दिलाने के लिए राज्य सरकार प्रभावी कदम उठा रही है।

शिमला के होटल पीटरहाफ में प्रदेश के दुग्ध उत्पादकों के साथ सीएम सुक्खू ने संवाद किया। उन्होंने कहा कि सरकार कृषि को उद्योग के रूप में प्रोत्साहित कर रही है ताकि किसानों को सामर्थ्यवान एवं स्वावलंबी बनाया जा सके। उन्होंने कहा कि हमारा प्रदेश ग्रामीण अर्थव्यवस्था पर आश्रित है, ऐसे में कृषि व दुग्ध उत्पादन की महत्वपूर्ण भूमिका है। प्रदेश सरकार आगामी बजट में किसानों की आय बढ़ाने के लिए नई योजनाएं ला रही है, ताकि पशुपालन और कृषि के बारे में समाज की सोच में सकारात्मक बदलाव आ सके।

उन्होंने कहा कि वर्तमान राज्य सरकार जन सहयोग से ग्रामीण अर्थव्यवस्था को मजबूत करने को ओर कदम बढ़ा रही है। सरकार दूध उत्पादकों को कर में रियायत देने पर भी विचार करेगी। उन्होंने कहा कि हिमाचल में दूध की गुणवत्ता बेहतर है तथा इसमें और सुधार करते हुए बेहतर विपणन व्यवस्था से जोड़कर किसानों की आय में आशातीत बढ़ोतरी की जा सकती है। इसी दृष्टिकोण के साथ सरकार अब कृषि को रोजगार के रुप में अपनाने के लिए प्रोत्साहन प्रदान कर रही है।

राज्य सरकार द्वारा प्रदेश की दुग्ध आधारित अर्थव्यवस्था को मजबूत करने के लिए दूध खरीद मूल्य को लागत मूल्य के आधार पर देने के लिए ‘हिम गंगा योजना’ की शुरुआत इस वित वर्ष से कर दी गई है, जिसके लिए 500 करोड़ रुपये का बजट प्रावधान किया गया है।

इसके साथ ही जिला कांगड़ा के ढगवार में 1 लाख 50 हजार लीटर प्रतिदिन की क्षमता का दुग्ध प्रसंस्करण संयंत्र स्थापित किया जाएगा, जिसकी क्षमता 3 लाख लीटर प्रतिदिन तक बढ़ाई जा सकती है। यह संयंत्र पूरी तरह से स्वचालित होगा जिस पर अनुमानित 226 करोड़ रुपये खर्च किए जाएंगे।

 

यह पढ़ेंःHimachal: पद्मश्री अवार्ड के लिए चयनित शिमला के गायक सोमदत्त बट्टू को सीएम सुक्खू ने दी बधाई

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *