Uttarpradesh: शिव मंदिर को तोड़ फर्रुखाबाद का प्राचीन मकबरा बना, दावे को लेकर हिंदू पक्ष पहुंचा कोर्ट

खबरें सुने

फर्रुखाबाद। प्राचीन रौजा (मकबरा) वाले भवन के प्राचीन शिव मंदिर होने को लेकर विवाद उठ खड़ा हुआ है। हिंदू जागरण मंच के नेता ने जिलाधिकारी को प्रतिवादी बनाकर सिविल कोर्ट में मंदिर को मकबरा बनाने को लेकर मुकदमा दर्ज कराया है। न्यायालय के आदेश से अमीन कमीशन ने स्थल का निरीक्षण कर नक्शा बनाया, जिसे न्यायालय में पेश किए जाने के बाद आगे की कार्रवाई होगी। कायमगंज के गांव मऊ रसीदाबाद में पुरातत्व विभाग द्वारा संरक्षित मुगलकालीन रशीद मियां का प्राचीन रौजा है।

हिंदू जागरण मंच के अध्यक्ष प्रदीप सक्सेना ने बताया कि इस रौजा की जगह प्राचीन गंगेश्वरनाथ शिव मंदिर है। पहले भी शासन में शिकायत भेजी थी कि मुगल आक्रमणकारियों ने शिव मंदिर को तोड़कर वहां मकबरा बना दिया है। उन्होंने सिविल न्यायालय सीनियर डिवीजन फतेहगढ़ में इसी दावे का मुकदमा दर्ज कराया है। जिसकी सुनवाई के बाद न्यायाधीश ने अमीन कमीशन को निर्देश जारी किया कि स्थल पर जाकर मानचित्र बनाकर अपनी आख्या प्रस्तुत करें। आज अमीन कमीशन ने उक्त स्थल का निरीक्षण किया है।

नागाख्य शंकर मुक्ति नागेश दिगंबर शिव सनातन संस्कृति संवर्जन परिषद के अध्यक्ष आचार्य दिनेश सिंह गंगवार ने कंपिल क्षेत्र के गांव निजामुद्दीनपुर स्थित नागा सैय्यद मजार पर अपना दावा पेश किया। उन्होंने इस संबंध में न्यायालय सिविल जज सीनियर डिवीजन के यहां वाद दायर कर कहा कि यह प्राचीन शिव मंदिर है। राजस्व रिकार्ड यह मंदिर नागाख्य शंकर अर्थात नागा नाम से दर्ज है। उन्होंने साक्ष्य के तौर पर राजस्व रिकार्ड भी न्यायालय में दाखिल किया है।

 

यह पढ़ेंःCongress: मोदी सरकार के दस साल पर कांग्रेस ने जारी किया ‘ब्लैक पेपर’

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *