Uttarakhand: बाबा नीब करौरी की कुटिया का होगा कायाकल्प

खबरें सुने

भवाली। भवाली-ज्योलीकोट मार्ग स्थित भूमियांधार में बाबा नीब करौरी की कुटिया का अब कायाकल्प होगा। कैंची धाम की तरह इसे भी धार्मिक पर्यटन से जोड़कर सुविधाओं का विस्तार किया जाएगा।

भक्तों के ठहरने की व्यवस्था के साथ ही पार्किंग का निर्माण होगा। योजना से ग्रामीणों को जोड़ते हुए होम स्टे की सुविधा भी मुहैया कराई जाएगी। इस पहल से भूमियांधार गांव मुख्यधारा से जुड़ेगा और कैंची धाम पर दबाव भी कम होगा। इसके लिए जिला प्रशासन पर्यटन विभाग के साथ मिलकर इसकी ब्रांडिंग करेगा।

केएमवीएन की साइट पर एक विंडो भी बनाया जाएगा। इससे बाहर से आने वाले श्रद्धालु बाबा की कुटिया के बारे में जानेंगे। आवागमन की सुविधा का भी पता लगा सकेंगे। मंडलायुक्त दीपक रावत ने मंगलवार को बाबा की कुटिया का निरीक्षण किया और पूजन कर ध्यान भी लगाया।

इस दौरान मंडलायुक्त दीपक रावत ने कहा कि भूमियांधार गांव को धार्मिक पर्यटन से जोड़ा जाएगा। भक्तों की सुविधा का पूरा ध्यान रखा जाएगा। कमिश्नर ने कहा कि पर्यटन से जोड़ने के लिए ग्रामीणों को होम स्टे का बेहतर विकल्प देंगे। इस दौरान पूर्व प्रधान मीनाक्षी, क्षेत्र पंचायत सदस्य अंजलि बिष्ट, पंकज बिष्ट ने आयुक्त को बाबा नीब करौरी की प्रतिमा भेंट की।

बाबा नीब करौरी ने अपने जीवनकाल में 108 हनुमान मंदिरों का निर्माण कराया। सबसे पहले बाबा ने हनुमान गढ़ी में बजरंगबली मंदिर की नींव रखी। इसी क्रम में उन्होंने भूमियांधार में सड़क किनारे हनुमान जी के एक मंदिर का निर्माण कराया। यहां वह भक्तों को अक्सर साधना में लीन मिलते। इससे कैंची धाम की तरह यहां से भी भक्तों का विशेष लगाव है।

 

यह पढ़ेंःUttarakhand: पीआरडी जवानों के दो साल में एक गर्म और एक सामान्य वर्दी मिलेगी- सीएम धामी

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *