बेटियों की शादी की उम्र 21 वर्ष करने से कुछ लोग परेशान हैंः पीएम मोदी

खबरें सुने

नई दिल्ली। यूपी में होने वाले विधानसभा चुनाव को लेकर पीएम नरेंद्र मोदी ने कमर कस ली है। पीएम लगातार उत्तर प्रदेश के दौरे कर रहे हैं। मंगलवार को मोदी ने प्रयागराज का दौरा किया और लाखों महिलाओं को कई सौगातें दी। इतना ही नहीं मोदी ने विपक्षी दलों को आड़े हाथ भी लिया। परेड ग्राउंड में इकट्ठा हुई लगभग दो लाख महिलाओं को संबोधित करते हुए मोदी ने सीएम योगी आदित्यनाथ की जमकर तारीफ भी की। मोदी ने विकास से लेकर अपराध के मुद्दे पर योगी सरकार की प्रशंसा की। बतादें कि मोदी ने एक कार्यक्रम में स्वयं सहायता समूहों (Self Help Groups) के बैंक खाते में 1,000 करोड़ रुपये ट्रांसफर किए।

उन्होंने कहा कि प्रदेश में विकास के लिए महिलाओं के सशक्तिकरण के लिए जो काम हुआ है, वो पूरा देश देख रहा है। अभी मुझे यहां मुख्यमंत्री कन्या सुमंगला योजना की 1 लाख से ज्यादा लाभार्थी बेटियों के खातों में करोड़ो रूपये ट्रांसफर करने का सौभाग्य मिला। यूपी सरकार ने बैंक सखियों के ऊपर 75 हजार करोड़ रुपये के लेनदेन की जिम्मेदारी सौंपी हैं। 75 हजार करोड़ रुपये का कारोबार गांवों में रहने वाली मेरी बहनें-बेटियां कर रही हैं। उन्होंने कहा कि  प्रदेश की महिलाओं ने, माताओं-बहनों-बेटियों ने ठान लिया है कि अब वो पहले की सरकारों वाला दौर, वापस नहीं आने देंगी। डबल इंजन की सरकार ने यूपी की महिलाओं को जो सुरक्षा दी है, जो सम्मान दिया है, उनकी गरिमा बढ़ाई है, वो अभूतपूर्व है। उन्होंने कहा कि बेटियां कोख में ही ना मारी जाएं, वो जन्म लें, इसके लिए हमने ‘बेटी बचाओ, बेटी पढ़ाओ’ अभियान के माध्यम से समाज की चेतना को जगाने का प्रयास किया। आज परिणाम ये है कि देश के अनेक राज्यों में बेटियों की संख्या में बहुत वृद्धि हुई है। मोदी ने कहा कि प्रसव के बाद भी बिना चिंता के अपने बच्चे की शुरुआती देखरेख करते हुए मां अपना काम जारी रख सके। इसके लिए महिलाओं की छुट्टी को 6 महीने किया गया है। रोजगार के लिए, परिवार की आमदनी बढ़ाने के लिए जो योजनाएं देश चला रहा है, उसमें भी महिलाओं को बराबर का भागीदार बनाया जा रहा है।

मोदी बोले कि पांच साल पहले यूपी की सड़कों पर माफियाराज था। यूपी की सत्ता में गुंडों की हनक हुआ करती थी। योगी जी ने इन गुंडों को उनकी सही जगह पहुंचाया है। यूपी में अपराध का सबसे बड़ा भुक्तभोगी बहन-बेटियां थीं। उनका सड़क पर निकलना मुश्किल हुआ करता था। स्कूल, कॉलेज जाना मुश्किल होता था। अब ऐसा नहीं होता है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *