Punjab: मुख्यमंत्री ने रखा टाटा स्टील के देश के दूसरे सबसे बड़े प्लांट का नींव पत्थर

खबरें सुने
  • लुधियाना में टाटा ग्रुप के ग्रीन स्टील प्लांट का नींव पत्थर रखने से पंजाब ने औद्योगीकरण के नये युग की ओर कदम उठाया
  • 2600 करोड़ रुपए की लागत वाले प्रोजैक्ट की स्थापना होने से नौजवानों के लिए रोज़गार के नये आयाम कायम होंगे
  • प्लांट के नजदीकी इलाकों के नौजवानों को रोज़गार के लिए प्राथमिकता देगा स्टील प्लांट
  • टाटा प्रोजैक्ट अन्य कंपनियों को भी राज्य में निवेश के लिए प्रेरित करेगा
  • अन्तर्मन से समझौता किया होने के कारण एक साल में प्रोजैक्ट का काम शुरू हुआ

लुधियाना, 20 अक्तूबरः

पंजाब के मुख्यमंत्री भगवंत सिंह मान ने आज कहा कि औद्योगिक क्षेत्र की प्रसिद्ध कंपनी टाटा ग्रुप की तरफ से व्यापक निवेश करने से राज्य में औद्योगिक विकास पर तरक्की के नये युग का आग़ाज़ हुआ है।
आज यहाँ हाई-टैक वैली में 2600 करोड़ रुपए की लागत के साथ 115 एकड़ में स्थापित हो रहे ग्रीन स्टील प्लांट का नींव पत्थर रखने की रस्म अदा करने के बाद मुख्यमंत्री ने कहा कि दुनिया भर में टाटा का बहुत बड़ा रुतबा और प्रतिष्ठा है और राज्य में इस प्रसिद्ध कंपनी के बड़े निवेश से निश्चित रूप से अन्य कंपनियों को राज्य में प्रवेश करने के लिए प्रेरणा मिलेगी। उन्होंने कहा कि जमशेदपुर के बाद देश का दूसरा सबसे बड़ा प्लांट स्थापित करने जा रहे टाटा ग्रुप को देशभक्त कंपनी के तौर पर जाना जाता है जिसने राष्ट्रीय आज़ादी संघर्ष में अहम भूमिका अदा की। भगवंत सिंह मान ने कहा कि इस प्रोजैक्ट से नौजवानों के लिए रोज़गार के नये आयाम कायम होंगे और राज्य के औद्योगिक विकास को बड़ा बढ़ावा मिलेगा। उन्होंने कहा कि इस प्लांट के साथ लगते इलाकों के नौजवानों को रोज़गार के लिए पहल दी जायेगी।
मुख्यमंत्री ने कहा कि यह बड़ा निवेश उन ताकतों के मुँह पर करारी चांटा है जो राज्य को अमन-कानून के मसले पर बेवजह बदनाम कर रही हैं। उन्होंने कहा कि ऐसा निवेश सिर्फ़ शांतमयी राज्य में ही आता है और इस प्रोजैक्ट ने यह साबित कर दिया है कि पंजाब आज देश का सबसे अमन- शान्ति वाला राज्य है। भगवंत सिंह मान ने ऐलान किया कि राज्य सरकार राष्ट्रीय मार्ग से प्लांट वाली जगह को जाती सड़क का निर्माण करेगी।
राज्य में एम. ओ. यू. ( मैमोरंडम आफ अंडरस्टैंडिंग) को अब पुराना और समय बीता चुका बताते हुये मुख्यमंत्री ने कहा कि पंजाब सरकार इस समय पर राज्य में औद्योगिक विकास को बढ़ावा देने के लिए उद्योगपतियों के साथ एम. ओ. डी. एस. ( दिल से समझौता सहीबन्द करना) पर हस्ताक्षर कर रही है। उन्होंने कहा कि एम. ओ. डी. एस. प्रत्यक्ष तौर पर दिल से किया पवित्र समझौता है और पंजाब को औद्योगिक क्षेत्र में अग्रणी राज्य बनाने के लिए यह समझौता पूरी तरह आपसी विश्वास पर आधारित है। भगवंत सिंह मान ने कहा कि इस प्रोजैक्ट के बारे किये गए ऐलान के एक साल के अंदर ही इस बड़े प्लांट का काम शुरू हो गया है।
मुख्यमंत्री ने कहा कि पंजाब उद्यमी भावना के लिए जाना जाता है, जिसको राज्य के हार्दिक और प्रसन्नचित्त स्वागत करने वाले लोगों के साथ और उत्साह मिलता है। उन्होंने कहा कि इस गतिशील भावना के साथ ही पंजाब, देश का सबसे पसन्दीदा निवेश स्थान बना है। भगवंत सिंह मान ने कहा कि राज्य सरकार के अथक प्रयासों स्वरूप आज पंजाब कई वैश्विक औद्योगिक दिग्गज़ों के निवेश के लिए पहली पसंद बन चुका है।
मुख्यमंत्री ने कहा कि राज्य सरकार के बड़े प्रयासों के कारण ही पंजाब में 16 मार्च, 2022 से अब तक 56796 करोड़ का निवेश प्राप्त हुआ है जिससे रोज़गार के 2.92 लाख मौके पैदा होंगे। उन्होंने कहा कि पिछले 18 महीनों के दौरान बड़ी कंपनियाँ टाटा स्टील, सनथान टेक्स्टाईल, टोपन और फरूडेनबरग राज्य में निवेश कर रही हैं। भगवंत सिंह मान ने कहा कि उनकी सरकार की तरफ से किये वायदे के मुताबिक ‘सरकार- उद्योगपति मिलनी’ की विलक्षण पहलकदमी की गई जिससे उद्योगपतियों की दुख- तकलीफ़ों सुनी जा सकें।
मुख्यमंत्री ने कहा कि फरवरी, 2023 में अमृतसर, जालंधर, लुधियाना, मोहाली और पठानकोट में सम्मेलन करवा कर स्थानीय उद्योगपतियों को अपने विचार और सुझाव पेश करने के लिए उपयुक्त मंच मुहैया करवाया गया। उन्होंने कहा कि इन सम्मेलनों के बाद एक और प्रयास करते हुए जुलाई, 2023 में उद्योग की बेहतरी के लिए उद्योगपतियों के सुझाव लेने के लिए वट्टसऐप नंबर और ई-मेल भी जारी किये गए। भगवंत सिंह मान ने कहा कि इन सम्मेलनों और टोल-फ्री नंबर पर प्राप्त हुई फीडबैक के आधार पर सरकार ने नीतिगत सुधार किये जिनका ऐलान ‘सरकार- उद्योगपति मिलनी’ के दौरान किया गया।
मुख्यमंत्री ने कहा कि राज्य सरकार ने ज़मीन-जायदाद की रजिस्ट्रेशन के लिए विशेष रंगों वाले स्टैंप पेपर लागू करके रास्ते से एकतरफ़ हट कर प्रयास किया जिसके अंतर्गत सी. एल. यू. के साथ ही सेल डीड की रजिस्ट्रेशन के लिए हरे रंग के कोड वाला स्टैंप पेपर शुरू किया गया। उन्होंने कहा कि पंजाब ने आकर्षित रियायतों की पेशकश करती औद्योगिक नीति- 2022 हाल ही में जारी की है। भगवंत सिंह मान ने कहा कि पंजाब निवेश को प्रोत्साहन करने में सर्वोत्तम राज्य बन कर उभरा है जिससे किसी भी निवेशक को एक जगह पर सभी सहूलतें मुहैया करवाई जातीं हैं।
मुख्यमंत्री ने कहा कि पंजाब में टाटा स्टील के निवेश को यकीनी बनाने के लिए उचित सहायता और सहूलतें प्रदान करने के लिए इनवैस्ट पंजाब ने कारगर भूमिका अदा की है। उन्होंने कहा कि भारत सरकार की तरफ से जून, 2022 में कारोबार को आसान बनाने में जारी की रैकिंग में पंजाब सर्वोच्च राज्यों में आता है। भगवंत सिंह मान ने कहा कि राज्य सरकार ने प्रस्ताव को मंज़ूर समझे जाने और मंजूरियें को ख़ुद- ब ख़ुद नवीनीकरण के साथ-साथ कारोबार के लिए प्रक्रिया को आसान बनाने की व्यवस्था की गई है।
मुख्यमंत्री ने कहा कि पंजाब पूर्वी और पश्चिमी माल भाड़ो के गलियारों के साथ अच्छी तरह जुड़ा हुआ है, जिसमें बहुत सी लॉजिस्टिकस सहूलतें, अंतरराष्ट्रीय और घरेलू हवाई अड्डों और शानदार रेल और सड़क संपर्क की सहूलतें मौजूद हैं। उन्होंने कहा कि पंजाब में औद्योगिक श्रमिकों के संदर्भ में शांतमयी माहौल है, जिसमें तीन दशकों के दौरान किसी भी औद्योगिक इकाई को श्रमिकों की अशांति का सामना नहीं करना पड़ा। भगवंत सिंह मान ने आगे कहा कि पंजाब, भारत के प्रमुख औद्योगिक राज्यों में से सबसे कम अपराधों की दर के साथ सबसे सुरक्षित राज्यों में से एक है।
मुख्यमंत्री ने यह भी कहा कि पंजाब आई. आई. टी., आई. आई. एम., आई. एस. बी और अन्य बहुत सी प्रसिद्ध शैक्षिक संस्थाओं का घर है जो उद्योगपतियों को हुनरमंद मानवीय शक्ति प्रदान करने में मदद कर रही हैं। उन्होंने कहा कि टाटा स्टील, नैसले, फरूडेनबरग, क्लास, पैपसीको, कोका कोला, कारगिल और अन्य कंपनियों का निवेश राज्य में सुखद कारोबारी माहौल को प्रफुल्लित करने के लिए पंजाब की वचनबद्धता को दर्शाता है। भगवंत सिंह मान ने कहा कि भारत में कारोबार की शुरुआत करने वाली या देश में पैर पसारने वाली अंतरराष्ट्रीय कंपनियों के लिए भी पंजाब पसंदीदा स्थान है।
टाटा स्टील लिमिटेड द्वारा पंजाब में भरोसा प्रकट करने और इस स्टील प्लांट की स्थापना करने की पहलकदमी की सराहना करते हुये मुख्यमंत्री ने कहा कि इस प्रोजैक्ट की स्थापना होने से राज्य की अर्थव्यवस्था और यहाँ के लोगों पर पड़ने वाले सकारात्मक प्रभाव से पंजाब बहुत उत्साहित है। उन्होंने पंजाब में टाटा स्टील को आने वाले समय में सरकार की तरफ़ से पूर्ण सहयोग देने का भरोसा दिया। भगवंत सिंह मान ने राज्य में टाटा स्टील के रौशन भविष्य की कामना करते हुये इस प्रोजैक्ट को नये युग की सुबह बताया।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *