Punjab: दिवाली का तोहफ़ा: आयुष्मान भारत मुख्यमंत्री सेहत बीमा योजना के लिए रजिस्टर करो और एक लाख रुपए जीतो

खबरें सुने
  • पंजाब राज्य स्वास्थ्य एजेंसी ने आयुष्मान कार्ड बनाने के लिए लोगों को प्रोत्साहित करने के लिए विशेष दिवाली बंपर ड्रॉ लाया
  • ड्रॉ के द्वारा 10 विजेताओं का चयन किया जायेग; पहला इनाम एक लाख रुपए, दूसरा इनाम 50 हज़ार रुपए और तीसरा इनाम 25 हज़ार रुपए रखा

    चंडीगढ़, 16 अक्तूबर:

    मुख्यमंत्री भगवंत सिंह मान के उद्देश्य के अनुसार पंजाब के अधिक से अधिक लोगों को सेहत बीमा कवर के अधीन रजिस्टर करने के लिए पंजाब राज्य स्वास्थ्य एजेंसी ने पंजाब के स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्री डॉ. बलबीर सिंह के दिशा-निर्देशों पर दिवाली बंपर ड्रॉ निकाला है, जिसके अंतर्गत अगर कोई भी व्यक्ति 16 अक्तूबर से 30 नवंबर, 2023 तक आयुष्मान भारत मुख्यमंत्री सेहत बीमा योजना के लिए अपने आप को रजिस्टर करता है, उसके पास एक लाख रुपए तक का इनाम जीतने का मौका होगा।

    ड्रॉ के बारे में जानकारी देते हुए राज्य स्वास्थ्य एजेंसी की मुख्य कार्यकारी अधिकारी ( सी.ई.ओ.) बबीता ने बताया कि ड्रॉ के दौरान 10 विजेताओं का चयन किया जायेगा और इसके लिए पहला इनाम एक लाख रुपए, दूसरा इनाम 50,000 रुपए और तीसरा इनाम 25000 रुपए होगा। इसी तरह चौथा इनाम 10000 रुपए और पाँचवाँ इनाम 8000 रुपए रखा गया है, जबकि छटे से लेकर दसवाँ इनाम 5000 रुपए का होगा। यह ड्रॉ 4 दिसंबर, 2023 को निकाला जायेगा।

    सी.ई.ओ. बबीता ने कहा कि यह विशेष मुहिम लोगों को आयुष्मान कार्ड बनाने के लिए प्रोत्साहित करते हुए आयुष्मान भारत मुख्यमंत्री सेहत बीमा योजना के अंतर्गत रजिस्टर करने के लिए पंजाब सरकार की एक और पहल है।

    उन्होंने आगे बताया कि लाभार्थी ‘‘आयुष्मान ऐप’’ का प्रयोग करके, “beneficiary.nha.gov.in” वैबसाईट पर जाकर या अपने नज़दीकी आशावर्कर या सूचीबद्ध अस्पतालों से सम्पर्क कर अपने कार्ड आसानी से प्राप्त कर सकते हैं।

    बताने योग्य है कि यह योजना राज्य भर के 800 से अधिक सरकारी और निजी सूचीबद्ध अस्पतालों में हरेक परिवार के लिए प्रति वर्ष 5 लाख रुपए तक के नकदी रहित इलाज की सुविधा प्रदान करती है। राज्य में 44 लाख से अधिक परिवार इस योजना का लाभ ले रहे हैं, जिस में घुटने बदलने, दिल की सर्जरी, कैंसर के इलाज आदि समेत लगभग 1600 किस्मों के इलाज की सुविधा दी जा रही है।

    इन लाभार्थी परिवारों में एन.एफ.एस.ए. राशन कार्ड धारक, जे-फॉर्म धारक किसान, रजिस्टर्ड मज़दूर, रजिस्टर्ड छोटे व्यापारी, मान्यता प्राप्त और पीले कार्ड धारक पत्रकार और सामाजिक-आर्थिक जाति जनगणना डेटा-2011 के अंतर्गत कवर परिवार शामिल हैं।

Pls read:Punjab: पर्यावरण को शुद्ध रखने के लिए पराली न जलाओ; स्पीकर संधवां ने किसानों को की अपील

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *