Punjab: मुख्यमंत्री द्वारा लुधियाना के उद्योग के लिए बड़ी पहलकदमियों का एलान

खबरें सुने
  • रिहायशी इलाकों से शिफ्ट करने के लिए लुधियाना के उद्योगों को तीन वर्षों की मोहलत दी
  • लेबर कॉलोनियों में बिजली मीटर और अन्य बुनियादी सुविधाएं मुहैया करवाई जाएंगी
  • उद्योगपतियों को बेसमैंट की खुदाई करने की मंजूरी 72 घंटों में मिलेगी
  • राज्य में उद्योग को सुखद माहौल प्रदान करने की वचनबद्धता दोहराई

लुधियाना, 15 सितम्बर:
पंजाब के मुख्यमंत्री भगवंत सिंह मान ने आज राज्य में औद्योगिक गतिविधियों को और प्रोत्साहित करने के लिए आने वाले दिनों में औद्योगिक फोकल प्वाइंटों और औद्योगिक ज़ोनों की कायाकल्प करने का ऐलान किया है।
आज यहाँ ‘सरकार- उद्योगपति मिलनी’ में एकत्रित हुए उद्योगपतियों को संबोधित करते हुए मुख्यमंत्री ने कहा कि फोकल प्वाइंटों और औद्योगिक ज़ोनों की हालत बहुत बुरी है, जिससे उद्योगों के विकास में रुकावट पैदा हो रही है। उन्होंने कहा कि आने वाले दिनों में इन फोकल फोकल प्वाइंटों और औद्योगिक ज़ोनों के व्यापक विकास से यह समस्या जल्द ही दूर हो जायेगी। भगवंत सिंह मान ने कहा कि इस नेक कार्य के लिए विस्तृत रूप-रेखा तैयार की गई है, जिससे उद्योगपतियों को सुविधा देने के साथ-साथ फोकल फोकल प्वाइंटों का चेहरा बदला जा सके।
मुख्यमंत्री ने लेबर कॉलोनियों में रह रहे लोगों को बिजली मीटर और अन्य बुनियादी सुविधाएं देने का ऐलान किया। उन्होंने कहा कि इन कॉलोनियें में कामगार वर्ग और अन्य लोग रहते हैं जिनको यह मीटर और अन्य सुविधाएं दी जाएंगी, जिससे वह अपना जीवन आरामदायक ढंग से व्यतीत कर सकें। भगवंत सिंह मान ने कहा कि बुनियादी सुविधाएं हरेक व्यक्ति का हक है और राज्य सरकार इसको यकीनी बनाऐगी।
मुख्यमंत्री ने कहा कि राज्य सरकार ने किसी भी इमारत के निर्माण के लिए इच्छुक उद्योगपतियों को बड़ी राहत दी है। उन्होंने कहा कि यदि किसी भी उद्योगपति ने बेसमैंट के लिए खुदाई करनी है तो उसके लिए इनवैस्ट पंजाब के पोर्टल पर अप्लाई करना होगा। भगवंत सिंह मान ने कहा कि इस खुदाई के लिए 72 घंटों में मंजूरी दी जायेगी और यदि इस समय में मंजूरी नहीं मिलती तो इसको स्वीकृत ही समझा जायेगा।
मुख्यमंत्री ने ऐलान किया कि रिहायशी इलाकों से शिफ्ट होने के लिए लुधियाना की उद्योग को तीन वर्षों की मोहलत दी जायेगी। उन्होंने कहा कि राज्य सरकार आने वाले समय में ऐसे इलाकों की स्थिति के बारे में फ़ैसला लेने के लिए समिति का गठन करेगी। भगवंत सिंह मान ने कहा कि राज्य सरकार लुधियाना में उद्योग की तरक्की के लिए वचनबद्ध है जिसके लिए हर संभव यत्न किये जाएंगे।
मुख्यमंत्री ने कहा कि राज्य सरकार उद्योग को सुखद माहौल देने के लिए वचनबद्ध है। उन्होंने कहा कि उद्योग तभी विकास करता है, जब उनका भरोसा सरकार की नीतियाँ और अमन-कानून की व्यवस्था में हो और राज्य सरकार उद्योगपतियों के लिए दिन-रात काम कर रही है। भगवंत सिंह मान ने कहा कि राज्य सरकार पंजाब को औद्योगिक सैक्टर में पंजाब का प्रथम राज्य बनाने के लिए कोई कसर बाकी नहीं छोड़ेगी।
मुख्यमंत्री ने कहा कि राज्य सरकार द्वारा उद्योगपतियों के सलाह-मश्वरे के साथ राज्य में नयी औद्योगिक नीति लागू की गई है। उन्होंने कहा कि उद्योगों को इसका प्रयोग करना चाहिए और भविष्य में ज़रूरत पडऩे पर इस में उचित संशोधन किया जायेगा। भगवंत सिंह मान ने कहा कि आने वाले दिनों में यह मिलनी जारी रहेंगी।
मुख्यमंत्री ने कहा कि लुधियाना से हिंडन के लिए उड़ानें पहले ही शुरू की जा चुकीं हैं और अब शहर को दिल्ली के साथ जोडऩे के लिए यत्न किये जाएंगे। उन्होंने कहा कि फि़लहाल दिल्ली के लिए नयी उड़ानों की इजाज़त नहीं दी जा रही है परन्तु फिर भी राज्य सरकार इस मुद्दे को केंद्र सरकार के समक्ष उठाएगी। भगवंत सिंह मान ने कहा कि उद्योगों को सुविधा प्रदान करने के लिए इस नेक कार्य में कोई कसर बाकी नहीं छोड़ी जायेगी।
मुख्यमंत्री ने कहा कि पहली बार राज्य सरकार द्वारा व्यापारियों और उद्योगपतियों की सुविधा के लिए यह मिलनी करवाई जा रही हैं। उन्होंने कहा कि पहले बड़े समागम केवल फोटो खिंचवाने के लिए ही करवाए जाते थे और इनका उद्योगों या राज्य को कोई लाभ नहीं मिलता था। भगवंत सिंह मान ने कहा कि राज्य सरकार ने इस रुझान को बदल दिया है और अब मीटिंगों का उद्देश्य उद्योगपतियों को लाभ पहुंचाना है।
मुख्यमंत्री ने कहा कि औद्योगिक क्षेत्र में राज्य का स्थानीय स्तर पर किसी अन्य राज्य से कोई मुकाबला नहीं है। उन्होंने कहा कि राज्य का उद्देश्य अब चीन के साथ मुकाबला कर उसे औद्योगिक क्षेत्र में पछाडऩा है। भगवंत सिंह मान ने कहा कि यह प्रगतिशील और मेहनती उद्योगपतियों के सहयोग से ही संभव हो सकेगा।
विरोधी पार्टियों को आड़े हाथों लेते हुए मुख्यमंत्री ने कहा कि जो लोग अपनी सत्ता के दौरान महलनुमा घरों में रह रहे थे, उनको लोगों ने राज्य के राजनैतिक अखाड़े से बाहर कर दिया गया है। उन्होंने कहा कि राज्य ने एक नये युग की सुबह देखी है क्योंकि अजय माने जाते इन नेताओं को लोगों ने सत्ता से बाहर का रास्ता दिखा दिया है। भगवंत सिंह मान ने कहा कि इस कारण पंजाब में बदलाव देखने को मिला है और पहली बार शासन प्रणाली में लोग केंद्रित फ़ैसलों को प्राथमिकता दी गई है।
मुख्यमंत्री ने कहा कि पिछली सरकारों के दौरान लोग सफल होने से डरते थे क्योंकि नेता उनके कामकाज में अपना हिस्सा डाल लेते थे।। उन्होंने कहा कि इन नेताओं ने जनता को ख़ासकर सफल उद्योगपतियों को लूटा है। भगवंत सिंह मान ने कहा कि पिछली राज्य सरकारों द्वारा उद्योगपतियों पर कई तरह की पाबंदियाँ लगाई गई थीं और फिर उनको बाद में चोर तक भी कहा गया।
मुख्यमंत्री ने कहा कि अब राज्य में असली मायनों में सिंगल विंडो सिस्टम वाली उद्योग समर्थकीय सरकार है। भगवंत सिंह मान ने कहा कि पिछली सरकारों में यह व्यवस्था केवल एक धोखा था क्योंकि किसी ने भी इसका असली अर्थों में प्रयोग नहीं किया। उन्होंने कहा कि पहले समझौतों पर परिवारों के साथ दस्तखत किये जाते थे परन्तु अब राज्य और यहाँ के लोगों के साथ किये जाते हैं।

 

Pls read:Uttarakhand: समर्थ पोर्टल पर पंजीकृत प्रत्येक छात्रों को मिलेगी डिजिटल आईडी

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *