Punjab: राज्य के नौजवानों को मुख्यमंत्री का तोहफ़ा, पहले साल में दी रिकार्ड 29936 सरकारी नौकरियां

खबरें सुने
  • देश भर में किसी भी राज्य सरकार ने पहले साल में नौजवानों को इतनी नौकरियाँ नहीं दीं
  • योग्य और जरूरतमंद नौजवानों को केवल मेरिट के आधार पर दी जा रही नौकरियां
  • लोगों की तरफ से नकारे गये नेता सत्ता की ख़ातिर नये गठजोड़ बनाने या पुराने गठजोड़ को बहाल करने के लिए लगा रहे हैं जोड़-तोड़
  • प्रतियोगी परीक्षाओं के लिए विद्यार्थियों को ट्रेनिंग देने के लिए खोले जाएंगे आठ हाई-टेक केंद्र

चंडीगढ़, 6 जुलाईः

पंजाब के मुख्यमंत्री भगवंत मान ने आज कहा कि यह पहली दफ़ा है कि पंजाब सरकार द्वारा राज्य के 29936 नौजवानों को सरकारी नौकरियाँ दीं गई हैं, जो एक रिकार्ड है क्योंकि देश भर में किसी भी राज्य सरकार ने पहले साल में नौजवानों को इतनी नौकरियाँ नहीं दीं हैं।

आज यहाँ म्युंसिपल भवन में स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण, बिजली और मेडिकल अनुसंधान विभाग में 252 नये भर्ती हुए नौजवानों को नियुक्ति पत्र सौंपने के बाद इक्ट्ठ को संबोधन करते हुये मुख्यमंत्री ने कहा कि नौजवानों को मान महसूस करना चाहिए कि वह राज्य सरकार का हिस्सा बन रहे हैं, जो नये पंजाब की सृजना के लिए अथक मेहनत कर रही है। उन्होंने कहा कि राज्य सरकार द्वारा यह भर्ती मुहिम पूरी तरह मेरिट के आधार पर चलाई जा रही है और सिर्फ़ योग्य और जरूरतमंद उम्मीदवारों को ही नौकरियाँ दीं जा रही हैं। भगवंत मान ने कहा कि यह भर्ती केवल मेरिट के आधार पर ही की जा रही है, जिसमें न तो कोई सिफारिश और न ही कोई तरकीब काम करेगी।

मुख्यमंत्री ने कहा कि वह आम आदमी की हालत को समझते हैं, उन्होंने हाल ही में उन अध्यापकों की सेवाओं को रेगुलर किया है, जो लम्बे समय से अपनी ड्यूटी निभा रहे थे। उन्होंने कहा कि एक अध्यापक ने उसे अपनी परेशानी और उसे पेश मुश्किलों के बारे बताया। भगवंत मान ने कहा कि पुरानी राज्य सरकारों की नकारात्मक रवैये के कारण पंजाब तरक्की और खुशहाली में पिछड़ गया है।

मुख्यमंत्री ने कहा कि जो लोग अपने सत्ता के दौर के दौरान आलीशान घरों में रह रहे थे, उनको लोगों ने राज्य के राजनैतिक नक्शे से बाहर कर दिया गया है। उन्होंने कहा कि राज्य ने एक नये युग की सुबह देखी है क्योंकि अजेय माने जाते इन नेताओं को लोगों ने सत्ता से बाहर का रास्ता दिखा दिया है। भगवंत मान ने व्यंग्य करते हुये कहा कि बड़े-बड़े महलों में रहने वाले इन लोगों ने कभी भी आम आदमी की भलाई की कोई परवाह नहीं की।

मुख्यमंत्री ने कहा कि अब यह नकारे हुए नेता उनके विरुद्ध नये गठजोड़ बना रहे हैं या पुराने गठजोड़ बहाल करने के लिए जोड़-तोड़ लगा रहे हैं। उन्होंने कहा कि ऐसे गठजोड़ों का एकमात्र मकसद किसी भी ढंग के साथ राज्य की राजनैतिक सत्ता हथियाना है। भगवंत मान ने कहा कि इन नेताओं की सोच के उलट वह लोगों की भलाई के लिए अथक मेहनत कर रहे हैं और अपने पद का प्रयोग जनता की सेवा के लिए कर रहे हैं।

मुख्यमंत्री ने कहा कि जिस तरह हवाई अड्डों पर हवाई पट्टी (रनवे) हवाई जहाज़ को सुचारू ढंग के साथ उड़ान भरने में सहायता करती है, उसी तरह राज्य सरकार नौजवानों को उनके सपनों को साकार करने में मदद कर रही है। उन्होंने ज़ोर देकर कहा कि नौजवानों की आशाओं को पूरा करने के लिए हर संभव यत्न किये जा रहे हैं और इस नेक कार्य को पूरा करने के लिए कोई कसर बाकी नहीं छोड़ी जायेगी। भगवंत मान ने नौजवानों से अपील की कि वे समाज में अपनी अलग पहचान बनाने के लिए पूरी ताकत लगा दें।

मुख्यमंत्री ने यह भी कहा कि राज्य सरकार विद्यार्थियों को प्रतियोगी परीक्षाओं के लिए ट्रेनिंग देने के मद्देनज़र आठ हाई- टेक सैंटर खोल रही है। स. मान ने कहा कि यह केंद्र नौजवानों को यू. पी. एस. सी. की परीक्षा पास करने और राज्य और देश में उच्च पदों पर पहुँचने के लिए मानक ट्रेनिंग प्रदान करेंगे। उन्होंने कहा कि राज्य सरकार का लक्ष्य नौजवानों को उच्च पदों पर बैठा कर देश की सेवा करना यकीनी बनाना है।

मुख्यमंत्री ने कहा कि राज्य के इतिहास में यह पहली बार है जब पंजाब सरकार कोयला आधारित बिजली उत्पादन को बढ़ाने के लिए राज्य में एक प्राईवेट थर्मल प्लांट खरीदने के लिए पूरी तरह तैयार है। उन्होंने कहा कि इससे राज्य के बिजली उत्पादन को बढ़ा कर अतिरिक्त बिजली जुटाने में मदद मिलेगी। भगवंत मान ने कहा कि पछवाड़ा कोयला खाने से कोयले की सप्लाई फिर शुरू होने से राज्य के पास अतिरिक्त कोयला उपलब्ध है, जिसका प्रयोग इन थर्मल प्लांटों को प्रभावशाली ढंग के साथ चलाने के लिए किया जा सकता है।

मुख्यमंत्री ने कहा कि राज्य के पास कोयले की अपेक्षित सप्लाई और स्टाक है जिसके द्वारा इन प्लांटों को कुशलतापूर्वक चलाया जा सकता है। उन्होंने कहा कि राज्य सरकार धान के सीजन के दौरान भी सभी क्षेत्रों को निर्विघ्न और नियकमत बिजली सप्लाई दे रही है। भगवंत मान ने कहा कि राज्य सरकार ने इस सम्बन्धी पहले ही पुख़्ता प्रबंध किये हुए हैं और राज्य में बिजली की कोई कमी नहीं है।

मुख्यमंत्री ने म्यूंसिपल के बारे कहा कि यह स्थान ऐसे कई समागमों का गवाह है, जहाँ नौजवानों को विभिन्न सरकारी विभागों में नौकरियाँ मिलीं हैं। उन्होंने कहा कि यह नौजवानों की भलाई यकीनी बनाने और उनके लिए रोज़गार के नये रास्ते खोलने के लिए राज्य सरकार की सहृदय वचनबद्धता को दर्शाता है। भगवंत मान ने कहा कि उनके लिए यह बहुत ही गौरव और संतोष की बात है कि सभी नौजवानों का चयन केवल रूप में योग्यता के आधार पर किया गया है।

मुख्यमंत्री ने कहा कि यह नौजवान सरकार का अटूट अंग बन चुके हैं और अब इनको पूरी तनदेही और जोश से लोगों की सेवा करनी चाहिए। भगवंत मान ने आशा अभिव्यक्त की कि नये भर्ती हुए नौजवान अपनी कलम समाज के जरूरतमंद और पिछड़े वर्गों की मदद के लिए करेंगे। उन्होंने कहा कि नये भर्ती हुए नौजवानों को अधिक से अधिक लोगों की भलाई यकीनी बनानी चाहिए जिससे समाज के हर वर्ग को इसका लाभ मिल सके।

इस मौके पर कैबिनेट मंत्री डॉ. बलबीर सिंह और हरभजन सिंह और अन्य भी उपस्थित थे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *