ढोल पर भंगड़ा डाल कर घर वापसी कर रहे किसान

खबरें सुने

नई दिल्ली।  संयुक्त किसान मोर्चा द्वारा किसान आंदोलन को स्थगित करने के ऐलान के बाद दिल्ली-एनसीआर के चारों बार्डर से शनिवार से प्रदर्शनकारियों की आधिकारिक वापसी शुरू हो गई है। शनिवार सुबह से ही किसान प्रदर्शनकारियों की गाड़ियों के काफिले निकल रहे हैं। बता दें कि दिल्ली-एनसीआर के चारों बार्डर (सिंघु, शाहजहांपुर, टीकरी और गाजीपुर) से किसानों की वापसी शुरू तो हो गई है, लेकिन यहां पर यातायात सामान्य होने में अभी एक-दो दिन से लेकर सप्ताह भर का समय लग सकता है। बता दें कि किसानों द्वारा शनिवार को विजय रैली के बाद आंदोलन स्थल खाली किए जाएंगे।

जयसिंहपुर खेड़ा-शाहजहांपुर बार्डर पर किसानों ने हटाए टेंट

रेवाड़ी संवाददाता के अनुसार, दिल्ली-जयपुर हाईवे स्थित जयसिंहपुर खेड़ा-शाहजहांपुर बार्डर पर शुक्रवार को ही किसानों ने अपने टेंट व अन्य सामान हटा लिए। पुलिस ने भी हाईवे से बैरिकेड व कंटेनर हटाकर रास्ता पूरी तरह से खोल दिया। करीब एक साल बाद दिल्ली-जयपुर हाईवे पर ट्रैफिक सुचारू हुआ।

मोर्चा के नेता पहुंचे गुरुद्वारा बंगला साहिब

संयुक्त किसान मोर्चा के नेताओं ने गुरुद्वारा बंगला साहिब पहुंचकर मत्था टेका। डीएसजीएमसी के कार्यकारी महासचिव हरमीत सिंह कालका ने किसान नेताओं को सम्मानित किया। मोर्चा के नेता बलबीर सिंह राजेवाल ने कहा कि प्रदर्शन की वजह से दिल्ली के लोगों को परेशानी हुई उसके लिए माफी मांगते हैं। राकेश टिकैत ने भी डीएसजीएमसी और दिल्ली की संगत का आभार जताया।

इसी तरह यूपी गेट (गाजीपुर बार्डर दिल्ली) पर शुक्रवार को भी प्रदर्शनकारियों की वापसी जारी रही। एक बड़ा लंगर और चिकित्सा शिविर बंद हो गया। प्रदर्शनकारियों ने शनिवार को विजय दिवस मनाने और 15 दिसंबर तक पूरी तरह से टेंट व अन्य सामान समेटने का ऐलान किया

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *