Uttarakhand: पुष्पांजलि फ्रॉड मामले में कंपनी का निदेशक राजपाल वालिया गिरफ्तार

खबरें सुने

देहरादून। फ्लैट-अपार्टमेंट बेचने के नाम पर सैकड़ों निवेशकों से करोड़ों रुपए की ठगी करने वाले पुष्पांजलि डेवलपर्स संचालक दीपक मित्तल के करीबी और पुष्पांजलि डायरेक्टर राजपाल वालिया को आखिरकार उत्तराखंड एसटीएफ ने नैनीताल से गिरफ्तार कर लिया है। एसटीएफ के शिकंजे में आए राजपाल की गिरफ्तारी को लेकर 25000/- का इनाम घोषित था। STF के अनुसार अभियुक्त राजपाल वालिया अपनी पत्नी शेफाली वालिया की जमानत के सम्बंध में गुपचुप तरीके से हाई कोर्ट के वकीलों से कानूनी सलाह लेने नैनीताल पहुंचा था। इसी सूचना की भनक लगते ही STF के बिछाए जाल में राजपाल वालिया फंस गया. एसटीएफ की टीम ने 29 सितंबर 2023 की देर रात घेराबंदी कर राजपाल को गिरफ्तार किया.. एसटीएफ SSP आयुष अग्रवाल के मुताबिक कुछ दिन पूर्व ED द्वारा पुष्पांजलि प्रोजेक्ट में धोखाधड़ी के मामले में राजपाल की पत्नी शेफाली को गिरफ्तार का जेल भेजा गया था. ED (एनफोर्समेंट डायरेक्टरेट) की कार्यवाही के बाद जेल भेजी गई अभियुक्ता शेफाली की जमानत जिला स्तर से खारिज हो गई थी. इसी वजह से राजपाल वालिया अपनी पत्नी शेफाली वालिया की जमानत के लिए गुपचुप तरीके से नैनीताल पहुंचा था. एसटीएफ के अनुसार अनगिनत निवेशकों के करोड़ों पर डकारने वाले मुख्य अभियुक्त भगोड़े बिल्डर दीपक मित्तल से जुड़े कई राज उसके सहपार्टनर राजपाल वालिया के सीने में दफन है.ऐसे में राजपाल की गिरफ्तारी होने से अब धोखाधड़ी से जुड़े कई अनसुलझे राज सामने आ सकते हैं.

अपने फोन का इस्तेमाल नहीं..हर दूसरे दिन राजपाल ठिकाना बदलता था: STF

एसटीएफ के पूछताछ में राजपाल वालिया द्वारा बताया गया कि वह अपनी गिरफ्तारी से बचने के लिए अपने किसी रिश्तेदार को किसी प्रकार से कोई फोन नहीं करता था. यदि किसी से संपर्क करना हो तो किसी का भी फोन मांगकर सपंर्क कर लेता था.इसके अलावा वह हर दूसरे दिन अपना ठिकाना बदल देता था.ताकि पुलिस को चकमा दे लेकिन इस बार STF द्वारा काफ़ी दिनों से बनाई गई रणनीति में वह फंस गया..

मास्टरमाइंड फ़रार बिल्डर दीपक मित्तल की तलाश तेज:STF

एसटीएफ के अनुसार फ्लैट अपार्टमेंट बचने के नाम सैकड़ो लोगों से करोडों रुपए की धोखाधड़ी करने मामले में मुख्य अभियुक्त भगोड़े दीपक मित्तल के पार्टनर गिरफ्तार राजपाल वालिया के खिलाफ गैंगस्टर सहित धोखाधड़ी से संबंधित थाना डालनवाला पांच मुकदमे दर्ज है.STF एसएसपी आयुष अग्रवाल के अनुसार अब इस पूरे धोखाधड़ी प्रकरण में पुष्पांजलि डेवलपर्स कंपनी के फ़रार मालिक दीपक मित्तल की तलाश युद्स्तर पर की जा रही

 

यह पढ़ेंःUttarakhand: निवेशक सम्मेलन को लेकर लंदन दौरे को सीएम धामी ने बताया सफल

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *